सफ़र

होली स्पेशल ट्रेनों- में रेलवे वसूल रहा ज्यादा किराया?

हालांकि होली में त्योहार मनाने के लिए दूरदराज के शहरों से घर वापसी करने वाले लोगों के लिए भारतीय रेलवे होली स्पेशल ट्रेनें भी चला रहा है, लेकिन इसके लिए यात्रियों को रेलवे द्वारा निर्धारित विशेष प्रभार भी अदा करना पड़ रहा है, जिससे स्पेशल ट्रेनों का टिकट सामान्य ट्रेनों की अपेक्षा 10% से 30% तक ज्यादा महंगा पड़ रहा है. होली एक ऐसा त्योहार है जिसे मनाने के लिए, खासकर उत्तर प्रदेश, बिहार के लोग अपने पैतृक गांव और शहरों की तरफ जरूर आते हैं. सामान्य ट्रेनों में उनको टिकट नहीं मिल रहा है तो मजबूरी में ऐसे यात्री सामान्य ट्रेनों में लगने वाले किराए से अधिक किराया चुका कर स्पेशल ट्रेनों से सफर कर रहे हैं. दरअसल तकरीबन 8 साल पहले सन 2015 में भारतीय रेलवे ने स्पेशल ट्रेनों में किराए को लेकर एक आदेश जारी किया था जिसके तहत स्पेशल ट्रेनों के किराए में विशेष प्रभार लिए जाने की बात कही गई थी. रेलवे के नियमों के मुताबिक यह विशेष प्रभार अलग-अलग श्रेणियों में बेसिक फेयर का 10% से 30% तक अधिक लिया जाता है. भारतीय रेलवे के नियमों के मुताबिक स्पेशल ट्रेनों में सेकंड क्लास (2S) के टिकट में न्यूनतम 10, अधिकतम 15 अतिरिक्त रुपये लिए जाते हैं, जबकि स्लीपर क्लास में 90 रुपये से डेढ़ सौ रुपये, एसी चेयर कार में 100 रुपये से 200 रुपये, थर्ड एसी में ढाई सौ से साढ़े तीन सौ रुपये, सेकंड और फर्स्ट एसी में 300. रुपये  से 400 रुपये तक का अतिरिक्त प्रभार यात्रियों को देना पड़ता है. स्पेशल ट्रेनों में रिजर्वेशन कराने के लिए न्यूनतम दूरी भी निर्धारित की गई है. रेलवे नियमों के मुताबिक, सेकेंड क्लास में न्यूनतम दूरी 100 किलोमीटर निर्धारित है. वहीं एसी चेयर कार के लिए ढाई सौ किलोमीटर, स्लीपर क्लास के लिए 500 किलोमीटर, थर्ड एसी इकोनामी और थर्ड एसी के लिए 500 किलोमीटर, सेकंड एसी इकोनामी और थर्ड एसी के लिए 500 किलोमीटर, सेकंड एसी के लिए 500 किलोमीटर, एग्जीक्यूटिव क्लास के लिए ढाई सौ किलोमीटर और फर्स्ट एसी के लिए 300 किलोमीटर की की न्यूनतम दूरी निर्धारित की गई है. यह भी नियम है कि यदि ट्रेन द्वारा तय की गई कुल दूरी प्रतिबंधित दूरी से कम है तो उस मामले में एक छोर से दूसरे छोर तक का किराया लिया जाएगा. स्पेशल ट्रेनों में अधिक किराया वसूले जाने के संदर्भ में आजतक ने पूर्वोत्तर रेलवे के सीपीआरओ पंकज कुमार सिंह से बातचीत की. पूर्वोत्तर रेलवे के सीपीआरओ . पंकज कुमार सिंह से बातचीत की. पूर्वोत्तर रेलवे के सीपीआरओ पंकज कुमार सिंह ने बताया कि भारतीय रेलवे द्वारा स्पेशल ट्रेनों में साल 2015 से किराये में जो… विशेष प्रभार लिए जाने संबंधित नियम निर्धारित किया गया है. उसी के अनुसार स्पेशल ट्रेनों का किराया लिया जा रहा है. इसके अलावा हाल फिलहाल किराए में किसी भी तरह की बढ़ोतरी नहीं की गई है

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button