राजनीति

मध्य प्रदेश प्रियंका गांधी जबलपुर में 12 जून को पहली चुनावी रैली करेंगी

एमपी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने तैयारियां तेज कर दी हैं। प्रियंका गांधी मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में चुनावी अभियान की शुरुआत करेंगी। प्रियंका गांधी 12 जून को जीवन रेखा मानी जाने वाली नर्मदा नदी की पूजा अर्चना करेंगी। उसके बाद को जबलपुर में रोड शो और रैली के साथ विधानसभा चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगी। यह जानकारी कांग्रेस के एक पदाधिकारी ने दी है। मध्य प्रदेश में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं। 2018 में कांग्रेस प्रदेश में सबसे बड़ी पार्टी के रुप में सामने आई थी लेकिन मार्च 2020 में ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके 20 से अधिक वफादार विधायकों के विद्रोह के बाद मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिर गई। जिसके बाद शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार बनी.मध्य प्रदेश के महाकौशल इलाके का जबलपुर सबसे बड़ा शहर है। इस इलाके में कांग्रेस ने 2018 के विधानसभा चुनावों में अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित 13 में से 11 सीटों पर जीत हासिल की थी तथा भाजपा को सिर्फ दो सीटों से संतोष करना पड़ा था.कांग्रेस के विधायक और प्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोट ने बताया, ‘‘प्रियंका जी सबसे पहले यहां पवित्र नदी के ग्वारीघाट तट पर नर्मदा पूजा करेंगी। इसके बाद वह रोड शो करेंगी और फिर एक जनसभा को संबोधित करेंगी। वह 12 जून को नर्मदा नदी का आशीर्वाद लेने के बाद पार्टी के चुनाव प्रचार अभियान संकल्प 2023 की शुरुआत करेंगी।’’ उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के साथ प्रियंका जी के प्रचार ने हिमाचल और कर्नाटक में पार्टी को बड़ी जीत दिलाई है.जबलपुर के महापौर और कांग्रेस के नगर प्रमुख जगत बहादुर सिंह ने कहा कि प्रियंका यहां दो किलोमीटर लंबा रोड शो करेंगी और बाद में उनकी रैली में डेढ़-दो लाख लोगों के शामिल होने की उम्मीद है। उन्होंने दावा किया कि जबलपुर संभाग के लोग भाजपा शासन से तंग आ चुके हैं। जिसके कारण 2023 के चुनावों में कांग्रेस महाकौशल क्षेत्र में जीत हासिल करेगी.कांग्रेस के एक अन्य नेता ने कहा कि राहुल गांधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ इस क्षेत्र से नहीं गुजरी थी और यात्रा ने मालवा और मध्य भारत को कवर किया था तथा वहां जनता से यात्रा को बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली। उन्होंने कहा कि महाकौशल क्षेत्र में प्रियंका की रैली से पड़ोसी विंध्य और बुंदेलखंड क्षेत्रों में भी कांग्रेस को मदद मिलेगी। इस क्षेत्र में एक मजबूत सत्ता विरोधी भावना है जहां बड़ी संख्या में आदिवासी, पारंपरिक कांग्रेस मतदाता रहते हैं.मध्य प्रदेश में मुख्य तौर पर छह क्षेत्र – महाकौशल, ग्वालियर-चंबल, मध्य भारत, निमाड़-मालवा, विंध्य और बुंदेलखंड हैं। महाकौशल या जबलपुर संभाग में – जबलपुर, कटनी, सिवनी, नरसिंहपुर, बालाघाट, मंडला, डिंडोरी और छिंदवाड़ा सहित आठ जिले आते हैं। वर्ष 2018 के विधानसभा चुनावों में, कांग्रेस ने 24 सीटों पर जीत हासिल की थी, जबकि भाजपा ने क्षेत्र के 38 विधानसभा क्षेत्रों में से 13 पर जीत हासिल की थी। वहीं, एक सीट पर कांग्रेस के करीबी निर्दलीय उम्मीदवार ने जीत दर्ज की। कांग्रेस ने छिंदवाड़ा जिले की सभी सात विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की। छिंदवाड़ा प्रदेश कांग्रेस के प्रमुख कमलनाथ का गृह क्षेत्र है। वे कई बार क्षेत्र से लोकसभा सांसद रहे हैं और वर्तमान में विधायक हैं।

Related Articles

21 Comments

  1. Wow, wonderful weblog format! How long have you been running a
    blog for? you make running a blog look easy.

    The entire look of your web site is excellent, as neatly as the content!
    You can see similar here najlepszy sklep

  2. What’s Happening i’m new to this, I stumbled upon this I have found It absolutely useful and it has aided me out loads.
    I’m hoping to give a contribution & assist other users like its aided me.

    Great job. I saw similar here: Najlepszy sklep

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button