मनोरंजन

पहले ही दिन थिएटर्स में भीड़ जुटाने में असफल रहीं ‘Bheed’ बॉक्स ऑफिस पर जादू नहीं चला

 राजकुमार राव और भूमि पेडनेकर का लॉकडाउन ड्रामा 24 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज किया गया था। अनुभव सिन्हा द्वारा अभिनीत मोस्ट अवेटेड फिल्म ‘भीड़’ उस समय की कहानी है जब प्रवासी श्रमिक लॉकडाउन में फंसे हुए थे और निकलने की कोशिश कर रहे थे। फिल्म ‘भीड़’ ने न केवल कोविड महामारी के दर्द और संघर्ष को वापस याद दिलया, बल्कि समय को भारत के विभाजन के साथ जोड़ने के लिए फिल्म विवादों में फंस गई। प्रशंसकों और आलोचकों से सकारात्मक समीक्षा प्राप्त करने के बाद भी, फिल्म ‘भीड़’ ने बेहद कम संख्या में ओपनिंग की है। हालांकि, आने वाले दिनों में इसकी और अच्छी कमाई की उम्मीद है।बॉक्स ऑफिस इंडिया के अनुसार, “कलेक्शन के बारे में बात करे तो कुछ खास नहीं रहा फिल्म के बजट के अनुसार फिल्म की कमाई बहुत ज्यादा कम है। ट्रेलर देखने के बाद लगा था की शायद फिल्म भी शायनदार होने वाली है। फिल्म ब्लैक एंड व्हाइट रही पर बजट के मुकाबले कमाई उतनी अच्छी नही रही है। बॉक्स ऑफिस पर फिल्म ‘भीड़’ ने पहले दिन भारत में सिर्फ 15 करोड़ का कलेक्शन करने में कामयाब रही। भीड़ सबसे खतरनाक समय की कहानी है जिसने मानव जिंदगी को एक झटके में बदल दिया। फिल्म को ब्लैक एंड व्हाइट में शूट करने का मुख्य उद्देश्य यह दिखाना था कि भारत के लॉकडाउन के दौरान सामाजिक असमानता के दृश्य कैसे थे। 1947 के भारत विभाजन के दौरान लोगों ने जो कुछ झेला था, उससे काफी मिलती-जुलती फिल्म है। यह कहानी उन लोगों की है, जिनका जीवन एक झटके में बदल गई और उनके जीवन के रंग तब खो गए, जब देश के भीतर सीमा खींची गई थी।

Related Articles

696 Comments